गजल-2

रजनी मलिक

रचनाकार- रजनी मलिक

विधा- गज़ल/गीतिका

————–
बेखुदी में गुनगुनाना चाहिये।
वक़्त से लम्हा चुराना चाहिये।
——————–
जो इशारों में सदा जाहिर हुए
आज लफ्जों को ठिकाना चाहिये।
''''''''"""""""'''"""
क्यूं दी मेहरबानियाँ तुमने मुझे ,
हक मुझे ये आजमाना चाहिये।
"""""""'""""""
रात दिन रहती थी रौनक मेरे घर,
अब उसे भी इक बहाना चाहिये।
"""""""""""""'''
साथ खुदगर्जी नहीं रखना कभी,
गर तुम्हें अपना जमाना चाहिये।
""""""""""""""""
भूख अब इंसा निगलती जा रही,
जिंदगी को शामियाना चाहिये।
""""""""""''''''"
खेत,बगिया,लहलहाते बस वहीँ,
बारिशों को गावं जाना चाहिये।

Sponsored
Views 21
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रजनी मलिक
Posts 31
Total Views 2k
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia