गजल

रजनी मलिक

रचनाकार- रजनी मलिक

विधा- गज़ल/गीतिका

"किसी दिन सामने सच बनके आओ।
कभी तुम ख्वाबों के चिलमन हटाओ।
धड़कती है हवाओं में मुहब्बत,
हमारी दास्ताँ उनको सुनाओ।
निकल पाते नहीं जो खुद से बाहर,
है कुछ रूठे हुए उनको हंसाओं।
सुना हर पल बदलती गर्दिशे है,
हमें वो तारों की भाषा बताओ।
भटकती संग है राही के गलियाँ,
उन्हें भी तुम कोई रहबर सुझाओ।
"कभी बंजर न हो दिल की जमी ये,
इन आँखों में नमी तो छोड़ जाओ।
रजनी

Sponsored
Views 41
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रजनी मलिक
Posts 31
Total Views 2.1k
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia