गजल : हिना रंग लाती है सूख जाने के बाद

Radhey shyam Pritam

रचनाकार- Radhey shyam Pritam

विधा- गज़ल/गीतिका

सोना जेवर बनता अग्नि में तप जाने के बाद।
इंसान संभलता जिंदगी में ठोकर खाने के बाद।।

हथेली पर सरसों कब हरी होती है मेरे दोस्त।
हिना भी रंग बिखराती है सूख जाने के बाद।।

मुझे कभी दर्द का अहसास ही नहीं हुआ था।
बहुत रोया पर जुदाई में तेरे दूर जाने के बाद।।

कभी न समझा मैं धोखेबाजी का रंज क्या है।
आज समझा हूँ अपनों से सजा पाने के बाद।।

बगल में छूरी मुँह में राम-राम सुना जिसके भी।
वही हँसता-सा लगा है घर जल जाने के बाद।।

इस अविश्वास भरे दौर में विश्वास खोजने चला।
विश्वास ही काम आया दोस्त !बुलाने के बाद।।

"प्रीतम" हिम्मत की दाद तो सभी देते हैं यहाँ।
कोई हौसला दे कभी कदम लडखडाने के बाद।।

Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Radhey shyam Pritam
Posts 133
Total Views 5.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia