गंगा की गुहार

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

गंगा की गुहार
***********
हे भागीरथ,
क्यों ले आये मुझे
देवलोक से धरा पर
कर दिया मैला
मेरा स्वच्छ आँचल
आज तरसती हूँ
बहते नीर को
आज संकट में हूँ मैं
मृत्यु निकट है मेरी
ये स्वार्थी मनुष्य
नष्ट कर रहे हैं मुझे
कितनी ही लाशें ढो चुकी मैं
बहुत मैला ढो लिया मैंने
श्वेत जल धारा को
काली गंगा बना दिया
हे भागीरथ
तुम तो लाये थे
अपनों को तारने हेतु
मैंने असंख्यों को तार दिया
अब तो मुझे भी तार दो
इससे पहले कि मैं मिट जाऊं
छोड़ आओ मुझे देवलोक
पुनः आ सकूँ धरा पर
किसी के बुलाने पर
सबको तारने
बचा रहे मेरा अस्तित्व
मेरी पवित्रता
मेरा कल कल बहता जल |

"सन्दीप कुमार"

Sponsored
Views 40
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 6.2k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments