गंगा का दोषी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

गंगा का दोषी
*********
सुनो भागीरथ
गुनाहगार हो तुम
दोषी हो तुम
मुझे मैला करने के
पुरखों को तारा तुमने
मिला दी राख मुझमें
चला दी एक प्रथा सी
जिसको तारना है
बहा दो गंगा में
वो कुछ न बोलेगी
खुद में समा लेगी
जितने भी पाप कर लो
धो आओ गंगा में
वो तो नदी है
ढो ही लेगी सबकुछ
अमृतनीरा थी मैं कभी
तुमने मुझे बना दिया
बहती हुई गन्दी नाली
आज ढोती हूँ
कारखानों का मैला
लाशें और अस्थियाँ
जगह जगह रख दिया
बोझ मेरे सीने पर
बना दिये ऊंचे ऊंचे बाँध
बदल दिया मेरा स्वरुप
कल कल बहते नीर को
बना दिया उथला पानी
मृत्यु शैया पर हूँ मैं
पुकार रही हूँ तुम्हे
मुझे तुम्हारी ज़रुरत है
आ जाओ पुनः धरा पर
और तार दो मुझे भी |
हे भागीरथ तार दो मुझे भी |

"सन्दीप कुमार"

Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 61
Total Views 5.7k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments