खफ़ा हूँ मैं

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

"खफ़ा हूँ मैं"
*************

खफा हूँ मैं,
हाँ तुझसे बहुत खफा हूँ मैं,
मुझसे क्या नाराज़गी है तेरी,
तू बताता क्यों नहीं,
मेरे साथ जो होता है,
गर मेरी सज़ा है,
वजह बताता क्यों नहीं,
क्या अभी तक तेरा मन नहीं भरा,
अभी कल ही आइना देखा
सन्न रह गया,
मेरी दाढ़ी में से झांक रहे थे
कुछ सफ़ेद बाल
ये क्या हो गया,
क्या मैं बूढ़ा हो रहा हूँ,
३२ की वय सफेदी का आना,
ये कहाँ का न्याय है,
आज आइना देखता हूँ,
सर पर, चेहरे पर
सफेदी ही नजर आती है,
जिया भी नहीं हूँ मैं
अभी तो ढंग से
और तूने मुझे क्या बना दिया है,
मुझसे उम्रदराज लोग भी,
मुझसे छोटे नजर आते हैं,
और तू मुझसे क्या उम्मीद रखता है,
क्या दूँ मैं तुझे,
कहाँ से लाऊँ श्रद्धा मैं तेरे लिए,
मैं बहुत खफा हूँ तुझसे,
बहुत बहुत खफा हूँ।

"संदीप कुमार"

From the wall:
www.facebook.com/Sandeip001?fref=nf

Views 79
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 61
Total Views 5.8k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia