ख्वाब

बसंत कुमार शर्मा

रचनाकार- बसंत कुमार शर्मा

विधा- गज़ल/गीतिका

नहीं आज बचपन जवानी नहीं है
मगर खत्म अपनी कहानी नहीं है

भरा प्रेम से दिल लबालब है मेरा
किसी के लिए बदगुमानी नहीं है

कहाँ से मिलेंगे किसी को निवाले
मेरे गाँव खेती- किसानी नहीं है

मेरे दिल ने सीखा तुम्हीं से धड़कना
तुम्हारे बिना जिंदगानी नहीं है

किया तुमसे’ वादा नहीं है चुनावी
किसी किस्म की बेईमानी नहीं है

इसी जन्म में तुमको पाकर रहूँगा
मेरा ख्वाब ये आसमानी नहीं है

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बसंत कुमार शर्मा
Posts 88
Total Views 1.3k
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia