**ख्वाबों की फस्लें आज भी मैं बोया करता हूं**

Er Anand Sagar Pandey

रचनाकार- Er Anand Sagar Pandey

विधा- गज़ल/गीतिका

एक पुरानी गज़ल-

**ख्वाबों की फसलें आज भी मैं बोया करता हूं::गज़ल**

हक़ीक़त जान ले कि रात भर मैं रोया करता हूं,
बहुत हैं दाग दामन में जिन्हें मैं धोया करता हूं l

यक़ीनन बांझ हैं दिल की जमीं मैं मान लेता हूं,
मगर ख्वाबों की फसलें आज भी मैं बोया करता हूं l

मेरा अरसा गुज़र गया तेरी यादों की चौखट पर,
ना जाने क्यूं तेरी यादों में ऐसे खोया करता हूं l

उगा करती है तेरी याद इन पलकों के गोशों में,
जिसे मैं आंसुओं से सींचता,संजोया करता हूं l

एक मुद्दत से कई ख्वाब मेरी चौखट पे बैठे हैं,
मेरी आंखें बता देंगी मैं कितना सोया करता हूं l

ये बात सच है कि मैं लोगों से तेरा ज़िक्र नहीं करता,
मगर छुप-छुप के तुझे गज़लों में पिरोया करता हूं ll

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Er Anand Sagar Pandey
Posts 8
Total Views 76
I'm an electronics engineer and working in a private company in Rajasthan. Basically I belong to Deoria(Uttar Pradesh). Writing is my passion and I have been writing since 1998. A few of my books are published in which "Adhoori tamannayen" and "Ek aawaaj" are the main. I work as an anchor too. You can also find me on facebook. To search enter "Er Anand Sagar Pandey" and stay connected.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia