खेलती है चिन्गारियां

Sonika Mishra

रचनाकार- Sonika Mishra

विधा- कविता

खेलती है चिन्गारियां
बेबस आग के लिए
है मजदूर लहू बहाता
कठपुतली से बैठे
साहूकार के लिए
दीर्घ चोटी पर
है लहराता ध्वजा
मिट जाती है नींव
स्वाभिमान के लिए
कितनी सांसे जी ली
न जाने कितनी बाकी है
कौन आता है यहाँ
हिसाब के लिए
मेरा मकसद नहीं
शीर्ष पर पहुंचना
मैं आयी हूं इस जहां में
धूल से लिपटे हाथों के
कीर्तिमान के लिए

-सोनिका मिश्रा

Views 87
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sonika Mishra
Posts 27
Total Views 4.4k
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments