खेती का खेल

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

रचनाकार- लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

विधा- गीत

खेती का भी खेल अजब है, जीत के भी हम हारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

धूप, आँधियाँ, बारिश, पाला, हमको नहीं डिगा पाएं
कीट, पतंगे, रोग, बीमारी, सपने कई मिटा जाएं
आशाओं के बीज ही बोते, राह भले अंगारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

खेत जोत पहली बारिश में, उन्नत बीज लगा आये
बंधी टकटकी आसमान पे, आस सभी टूटी जाये
बारिश की अब राह में देखो, सूखे खेत हमारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

बेटा पढ़ना चाह रहा है, बिटिया है बढ़ती जाती
पत्नी की छोटी चाहत भी, मुझको मुँह चिढ़ा जाती
कर्जे के अब बोझ तले क्यूँ, किस्मत के हम मारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

दुनिया भर के स्वप्न उगाकर अपने स्वप्न भुला जायें
रात-दिन मेहनत करके भी, हाथ सिर्फ आसूँ आयें
जय जवान और जय किसान भी, आज बने बस नारे हैं
अन्नदाता कहलाते फिर भी भूखे पेट हमारे हैं

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
बैतूल (म. प्र.)

Views 147
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
Posts 62
Total Views 9k
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक के पद पर कार्यरत...आई आई टी रुड़की से पी एच डी की उपाधि प्राप्त...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia