खूशियों के पल

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

जी भर के आज
वो मुस्कराया है
बाद मुद्दत के खूशियों का पल
झोली मे उसकी आया है ।

खूशियों का पैमाना
आंखों से छलक आया है
पाने को इस पल को
किस्मत ने बहुत उसे रूलाया है ।

अंधेर नही उसके द्वारे
समझ ये आज उसे आया है
खोया था जितना उसने
कहीं अधिक आज पाया है ।

खुशियों का कारवां
बसन्त बन के आया है
कांटो से उठा कर
उसे फूलों पर बैठाया है ।।

राज विग

Sponsored
Views 99
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 46
Total Views 2.4k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia