“खूबसूरत जिन्दगी “

Dr.Nidhi Srivastava

रचनाकार- Dr.Nidhi Srivastava

विधा- कविता

ख्वाहिशों के पन्ने ना पलटिये ,
सिलवटें पड़ जाती हैं ,
और उम्र गुज़र जाती है ,
मगर पूरी नहीं होती हैं ,
यादों को भी समेट दीजिये,
इन्हीं पन्नों के बीच,
परत -दर -परत,
मिलती है बडी मुश्किल से,
छोटी सी ये खूबसूरत ज़िंदगी ,
हौसलों के पंख पसारिये,
अपने आज पे न्योंछावर,
अपने कल को कर दीजिये,
अपने आने वाले कल को
अपनी आगोश में भर लीजिये.
…निधि…

Views 73
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr.Nidhi Srivastava
Posts 56
Total Views 1k
"हूँ सरल ,किंतु सरल नहीं जान लेना मुझको, हूँ एक धारा-अविरल,किंतु रोक लेना मुझको"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments