खिल के कीचड़ में भी वो सुथरा रहा

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

06/08/2017
आज़ की हासिल

ग़ज़ल
🍂🌿🌴🍀🍁🌷💐🌹

उम्र भर हमको यही शिकवा रहा
चाँद से रुख़ पर ये क्यूँ परदा रहा
🌹🌺🌴🍀🌿🍂💐🌷🍁
कर न पाया है मदद कोई मेरी
बस दुखों का शह्र में चर्चा रहा
🍁🌷🌹🌺🍂🌿🌴🍀🌷
बाग़ बिज़ली गिरी कुछ इस तरह
फूल पत्ती शाख़ सब बिख़रा रहा
🍂🌿🌴💐🌹🌺🌷🍁🌹
बदनसीबी तीरग़ी दुश्वारियाँ
दर्द ये सब कल्ब में पलता रहा
🍂🌿🌴🍀🌺🌹💐🌷🍁
याद आते जब मुझे गुज़रे वो दिन
बस लिखे ख़त आपके पढ़ता रहा
🍂🌿🌴🍀🌹💐🍁🌷💐
हो न ये बदनाम मेरी जिन्दगी
फ़र्ज़ सारे मैं अदा करता रहा
🌱🌼🌳🍂🌿🌴🍀🌹🌺
तीरग़ी मिट जाए तेरी इसलिये
मैं दिया बनकर सदा जलता रहा
🌱🌳🌲🍂🌿🌴🍀🌷💐🌹
ख़ार तो हिस्से में मेरे आ गये
बस गुलों पर उसका ही कब्जा रहा
🌳🍀🌴🌿🍂🌹💐🌷🍁🌺
आज़ का नेता भुला कर फ़र्ज़ को
वो सदा कुर्सी से ही चिपका रहा
🌺🌹💐🌷🍁🍂🌿🌴🍀🌲
तिश्नग़ी मिट जाएगी इक दिन मेरी
ख़ाब दिल में मैं यही बुनता रहा
🌱🌳🌲🍂🌿🌴🍀🌷💐🌹
वस्ल को जिनके मैं तरसा उम्र भर
वो रक़ीबों से मगर मिलता है रहा
🌳🌲🍂🌴🍀🌺🌹💐🌷🌲
देखिए साहिब कँवल की सादगी
खिलके कीचड़ मे भी वो सुथरा रहा
🌼🌳🌲🍂🌿🌴🍀🌺🌹💐
हो गई वो गैर की जब सामने देख कर ये हाथ मैं मलता रहा
🌳🌲🌼🍂🌿🌴🍀💐🌹🌺
फूल तुमको दे दिया "प्रीतम" सभी
खुद मगर काँटों पे ही चलता रहा
🌳🌲🌿🌴🍀🌺🌹💐🌷🍁
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 123
Total Views 918
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia