ख़ाक में मुझको मिलाने आ गए

बबीता अग्रवाल #कँवल

रचनाकार- बबीता अग्रवाल #कँवल

विधा- गज़ल/गीतिका

जिंदगी भर जह्र पिलाने आ गये
ख़ाक में मुझको मिलाने आ गये

जी रहे थे हम यहाँ ओ.. बेवफ़ा
क्यों हमें फिर से सताने आ गये

दूर हमसे हो गये थे बेवजह
फासले अब क्यों मिटाने आ गये

रात की रंगीनियों में खो गये
दिल मिरा देखो जलाने आ गये

मुश्किलों से हो गया जो सामना
दर खुदा के सर झुकाने आ गये

हो गई तुझसे मुहब्बत है कँवल
आज ये तुझको बताने आ गये

गिरहबंद-
चाँद छूने के बहाने आ गए
हम भी क़िस्मत आज़माने आ गए

Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
बबीता अग्रवाल #कँवल
Posts 51
Total Views 3.5k
जन्मस्थान - सिक्किम फिलहाल - सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल ) दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं। (तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia