“क्षणिकाएँ”

Dr.rajni Agrawal

रचनाकार- Dr.rajni Agrawal

विधा- अन्य

क्षणिकाएँ
(१)"बात"
******
कौन कहता है
तन्हाई अकेली
और खामोशी मौन होती है?
जब मिल बैठती हैं
एक साथ तो
बात ही बात होती है।

(२)"सूनापन"
********
मन व्यथित हो उठा
पाकर तन्हाई में
अँधेरा जीवन
कितनी बेचैनी, दर्द
और सूनापन।
(३)"फ़ितरत"
गिरगिट से रंग बदलती
मुहब्बत को गैर के साथ
देख कर
आँखों से बहता
सैलाब कहने लगा–
"आज भीगे मेॆरे ख़त के
कुँआरे अल्फ़ाजों को
नहीं पढ़ पाओगे,
हाँ.. मुहब्बत की कश्ती
बनाकर देखना
शायद कहीं कोई
नया साहिल मिल जाए।"
(४)"हथेली की लकीरें"
**************
आँखों की चाहत को
हथेली की
लकीरों में कुरेदा
तो पाया…
किस्मत में मुहब्बत ही नहीं।
ख़ुदा का
शुक्रिया अता किया
जो उसने
धड़कते सीने में
दिल बनाया है।

(५)"ईर्ष्या"
आज शून्य को तक
प्यासी नज़रें
कुछ तलाश रही हैं……
किसे मालूम था—
तप्त रेत में जिन अल्फ़ाज़ों को
उकेरती मेरी तूलिका
अरमानों के रंग भर रही है
उन्हें समंदर की ईर्ष्यालु लहर
बहाकर ले जाएगी।

डॉ.रजनी अग्रवाल "वाग्देवी रत्ना"
संपादिका-साहित्य धरोहर
महमूरगंज, वाराणसी (मो.-9839664017)

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr.rajni Agrawal
Posts 104
Total Views 2.3k
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका। उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर "ज्ञान भास्कार" सम्मान, "काव्य -रत्न" सम्मान", "काव्य मार्तंड" सम्मान, "पंच रत्न" सम्मान, "कोहिनूर "सम्मान, "मणि" सम्मान  "काव्य- कमल" सम्मान, "रसिक"सम्मान, "ज्ञान- चंद्रिका" सम्मान ,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia