क्रोंच विरह से निकली कविता,हर उर की भाषा बन आयी हो…

अरविन्द दाँगी

रचनाकार- अरविन्द दाँगी "विकल"

विधा- कविता

क्रोंच विरह से निकली कविता,हर उर की भाषा बन आयी हो।
मन के भावों की तुम भाषा,हर मन व्यक्त कर पायी हो।
जीवन का हर राग रचा,अभिव्यक्त सहज सब कर आयी हो।
हर्ष-विरह-श्रंगार सभी रस,जनभाषा तुम कहलायी हो।
वेदों से लेकर पुराण गढे सब,क्रांति की वाणी बन पायी हो।
कविता तुम रहती हर उर में,नैनो की भाषा पढ़ आयी हो।
कभी रचती तन्हा मन को,कभी बावरी कहलायी हो।
कभी प्यास बन चातक चुनती,कभी प्रेम की राधा बतलायी हो।
कहता "विकल" तुम बिन क्या मै,जीवनसार तुम बन आयी हो।

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी "विकल"

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अरविन्द दाँगी
Posts 24
Total Views 582
जो बात हो दिल की वो कलम से कहता हूँ.... गर हो कोई ख़ामोशी...वो कलम से कहता हूँ... ✍अरविन्द दाँगी "विकल"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia