क्रांतिकारी मुक्तक

naman jain naman

रचनाकार- naman jain naman

विधा- मुक्तक

बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ १२२२*

कभी अंग्रेज़ का हमला, कभी अपने पड़े भारी।
कभी तोड़ा वतन को भी, कभी गद्दार से यारी।
कलम का क्रांतिकारी हूँ, यही सब आग लिखता हूँ,
नमन शोला उगलता है, कलम संगीन-सी प्यारी।

नमन जैन नमन

Views 104
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
naman jain naman
Posts 4
Total Views 128

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia