क्यों बेदहमीं है

Brijpal Singh

रचनाकार- Brijpal Singh

विधा- कविता

आप तो आप हो जी, हम हमीं हैं
सब कुछ तो ठीक है मगर
तो फ़िर कहाँ कमी है !
—————–
है सूर्य देवता ऊपर
आसमां भी ऊपर है
धरती, धरती ही ठहरी
कडापन है कहीं , कहीं नमी है
—————
हुस्न के दिलवाले है कहीं
तो कहीं देश के रखवाले हैं
हैं मतवाले भी बहुत मगर
फिर भी क्यों बेदहमी है !
————-
भूखा है आज भी किसान
सूखी पडी ज़मीं है
मौत तो सबको लिखी है मगर
यहाँ तो लाज़मी है !
—————————-
पैसा है, रुपैया है
इस दफें न कोई भैय्या है
मत फेंको इस तरह गंदगी
आगे देखो गंगा है मैय्या है !
—————-
लूट है कहीं कहीं मार है
भ्रष्ट है भ्रष्टाचार है !
सोच तो लो इक बार बारे में ज़रा
जो भूखे हैं लाचार हैं !
—————–
चरित्रवान है कोई , कोई बेहया है
ये वक्त की पुकार ही है
समझते सब, जानते भी सभी हैं
मगर न भाव है कहीं न कहीं दया है !
__________________________ बृज

Views 41
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Brijpal Singh
Posts 51
Total Views 2.4k
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
6 comments
    • हृदयदिल से शुक्रिया शर्मा जी आपका!