क्यू तुमने मुँह फेर लिया

Rashmi Singh

रचनाकार- Rashmi Singh

विधा- कविता

सर्द रात
जब तुम
असहाय पीड़ा में थी
मेरी किलकारी
ने
तुम्हारे सारे दर्द को
भुला दिया था
और तुम मुस्कुराते
हुए बोली थी
तुम मेरा
अक्स हो
और मैं झिलमिलाती हुई
बढ़ रही थी
फिर
उस रात जब
तुम्हारा अक्स
दुबारा आया
तो तुमने भी मुँह फेर लिया
और कह ही दिया
मेरा कलंक आया आज जमी पर
माँ फिर तुम भी बदलने लगी
कारन कौन था माँ
मैं या
घर समाज का वो ताना
जिसने तुमसे
तुम्हारी ही ममता को
कलंक कहला डाला
माँ मैं आज भी वही हूँ
तुम्हारा अक्स
फिर तुम क्यू आज बन
गई माँ से एक सोच का अक्स?

Views 55
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rashmi Singh
Posts 6
Total Views 153

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia