क्यूँकि हम बेटियाँ हैं

Top 30 Post

किरन मिश्रा

रचनाकार- किरन मिश्रा

विधा- कविता

रचनाकार-किरणमिश्रा
विधा-कविता

"क्यूँकि हम बेटियाँ हैं"

महकाऊंगी कोख तुम्हारी,
बोवोगे गर बेटियाँ!
बंजर हो जायेगी सारी दुनिया,
मारोगे गर बेटियाँ !!

अमूल्य निधि हूँ,मुझको पहचानो
दोनों कुल की आन हूँ !
महापाप है गर्भ में हत्या,
माँ मैं भी तेरी सन्तान हूँ!!

बालिका-वधू मुझे बनाके,
जीवन ना बनाओ,अभिशाप मेरा!
मुझे पढ़ाओ,मुझे लिखाओ,
छूने दो आसमान तुम!!

भइयाजी की आन बनूँगी,
मम्मीपापा तुम्हारी जान मैं!
पढ़लिखकर सूरज सी चमकूँगी,
मैं भी विश्व पटल पर शान से!!

गुड़िया बन कर खेलूँगी
माँ तुम्हारी छाँव में!
चिड़ियाँ बन के उड़ जाऊँगी
सासू जी के गाँव में!!

पिता हिमालय की गंगा बन,
सींचूँगी ससुराल को !
सासससुर और जेठ-ननद
रिश्तों की भरमार को!!

जीवन साथी साथ निभाना,
वेदों के उच्चार से!
जीवन ज्योति सदा उजागर
हम दोनों के प्यार से!!

सुन्दर बगिया महकायेंगें,
नन्हें फूलों की मुस्कान से !
दिगदिगन्त तक लहरायेंगें,
दोनों कुल की शान को !!""

"एक आग्रह हमें भी जीने दो "क्यूँकि हम बेटियाँ है"

Views 2,333
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
किरन मिश्रा
Posts 4
Total Views 2.4k
"ज़िन्दगी खूबसूरत कविता है,और मैं बनना चाहती हूँ इक भावनामयी कुशल कवियत्री" जन्म तिथि - 28 मार्च शिक्षा - एम.ए. संस्कृत बी. एड, नेट क्वालीफाइड, संप्रति- आकाशवाणी उद्घघोषिका(भूतपूर्व) प्रकाशित कृति- साँझा संकलन "झाँकता चाँद"(हायकु) विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में समय-समय पर प्रकाशित अनेकानेक रचनायें !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia