क्या सोचा है तुमने,

Sonika Mishra

रचनाकार- Sonika Mishra

विधा- कविता

क्या सोचा है तुमने,
आज दिवाली क्यूँ मना रहे ।
ऐसी कौन सी विजय मिली,
जो दीप खुशी का जला रहे ।।
क्या सोचा है तुमने,

अरमान किसी के टूट रहे,
बिखर रहे हैं सपने ।
दुश्मन के नापाक इरादों से,
छूट रहे हैं अपने ।।
क्या सोचा है तुमने,

हां हम भी दीप जलाएगे
जब असल विजय हम पाएंगे
न होगी दहशत दिल में
ऐसी दिवाली हम मनाएंगे
क्या सोचा है तुमने,

– सोनिका मिश्रा

Views 102
Sponsored
Author
Sonika Mishra
Posts 24
Total Views 4k
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia