क्या लिखूँ

डॉ मधु त्रिवेदी

रचनाकार- डॉ मधु त्रिवेदी

विधा- कविता

आज कुछ लिखूँ तुम पर
पर क्या लिखूँ
कविता ,छन्द या दोहा
कविता से सरस तुम
मुक्तक से स्वच्छन्द तुम
पर मैं क्या लिखूँ

तुम मेरे प्रिय हो
मुझे बडे अजीज हो
महाकाव्य या खण्डकाव्य
मन चाहा लिखूँ
अभी तो तुमने
दी दस्तक मेरी जिन्दगी में
बाकी है बरतना

अभी तो जुटा रही हूँ
काव्य साम्रगी
कुछ नजदीकिया पूरी
बाकी है कुछ
खण्ड खण्ड जोड जोड
खण्डकाव्य लिखूँ

तुम भी हो अनावृत
सबकुछ साफ साफ
रहस्य को खोल
ना करना आँख मिचौली
क्योंकि मैं तुमको
अब समझने लगी हूँ
पढने लगी हूँ

बीते दिन की करतूत
ना दोहरा देना
जैसा कहूँ मेरा
कहना मान लेना
क्योंकि अब तुम
मेरे पन्नों में हो
मेरी लेखनी में

जैसे सूरज उदित
होता बैसे आना
तुम्हारा होता
फिर विलुप्त हो जाते
अगले आगमन को
कितना कष्टदायी है
आना जाना तुम्हारा
फिर मेरा कैसे हो पूरा
मेरा यह खण्डकाव्य

शुक्रिया तुम्हे
मेरे खण्डकाव्य का
विषय हो तुम
दूर सफर है
मन चंचल ना करना
हाथ मेरा जो थामा
सदा सदा सदा

Sponsored
Views 30
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ मधु त्रिवेदी
Posts 279
Total Views 4.5k
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों में रचनायें विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia