कुहू कुहू कर गाती कोयल……..

सत्य भूषण शर्मा

रचनाकार- सत्य भूषण शर्मा

विधा- कविता

कुहू कुहू कर गाती कोयल,
सबको खूब रिझाती कोयल|
अपनी सुंदर मीठी बोली में,
हर दिन गीत सुनाती कोयल||
जब भी कभी पकड़ना चाहो,
फुर से झट उड़ जाती कोयल|
पेड़ों की शाखों में छुपकर,
सबको खेल खिलाती कोयल||
रंग को नहीं बोली को देखो,
ये सन्देश दे जाती कोयल|
कुहू कुहू कर गाती कोयल,
सबको खूब रिझाती कोयल||

Views 48
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सत्य भूषण शर्मा
Posts 2
Total Views 95
प्रवक्ता ,लेखक एवं पत्रकार

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia