कोई तितली नहीं आती

दुष्यंत कुमार पटेल

रचनाकार- दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

विधा- गज़ल/गीतिका

तरही गज़ल 1222 1222 122

तेरे जाने का शिकवा क्यूँ करें हम l
सितम खुद पर ढहाया क्यूँ करें हम ll

जमीं पर चांद हमको मिल गया है l
गगन का चाँद देखा क्यूँ करें हम ll

जिधर देखा उधर है घोर कलियुग l
*वफ़ा-दारी का दावा क्यूँ करें हम* ll

कोई तितली नहीं आती यहाँ पर l
ठहर कर वक्त जाया क्यूँ करें हम ll

हया ये शोखियाँ, जुल्फें परीशा l
अदा ऐसी भुलाया क्यूँ करें हम ll

✍दुष्यंत कुमार पटेल
*जुल्फें परीशा* – बिखरी हुई जुल्फे

Sponsored
Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दुष्यंत कुमार पटेल
Posts 103
Total Views 7.6k
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia