” ————————————— कैसे दिल बहलाएं ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- गीत

कठिन डगर है पग में छाले , अब तो चला न जाए !
हमराही ने बांह छोड़ दी, व्यथा सही न जाए !!

सपने टूटे , ऐसे बिखरे , आंखें ठगी ठगी सी !
अपनों ही ने हमको लूटा , कैसे दिल बहलाएं !!

ग्रहण लगा है अगर चांद को , नज़रें सभी चुराये !
समय अछूत बना दे हमको , डुबकी कहाँ लगाएं !!

पावन रिश्ता मन से जोड़ा , गाँठे रेशम रेशम !
हाथ से छूटा , एसा टूटा , पकड़ नहीं हम पाये !!

झूठी कसमें , झूठे वादे , आखिर दिल टूटा है !
आंख मूंद कर चलने वाले , छलना ही बस पाएं !!

जब लिए तूलिका चित्र उकेरे , कैनवास खाली था !
झूंठी तस्वीरों को बोलो , अब हम कहाँ सजाएं !!

दिन है चुप चुप , रातें चुप सी , दामन खामोशी का !
समय ने करवट एसी बदली , चुप से काम चलाएं !!

बृज व्यास

Views 120
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 105
Total Views 26.9k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia