कृष्णा मेरा प्रेम

निहारिका सिंह

रचनाकार- निहारिका सिंह

विधा- अन्य

।।1।।
श्याम श्याम जपते
मैं ऐसी खो जाऊँ।
दूँ वीणा पे तान
मैं मीरा हो जाऊ ।

है चाह नही कोई
बस चाह यही पाऊँ।
तुझे आंखों में बसाकर
मैं कबीरा हो जाऊँ ।।
।।2।।
कान्हा तेरे जैसी बंसी
भला कैसे बजाए कोई
जब मन कारी कोठरी
और वाणी विषाक्त हो ।।

।।3।।
तुम्हारा प्रेम
मेरी आत्मा की कामना
मेरे आंखों की प्यास ।।
तुम्हारा प्रेम
मेरे जीने का हेतु
तुम्हारे लौट आने की आस ।।
तुम्हारा प्रेम
मेरे आत्मा की शुद्धि
मेरे मन का बैराग ।।

निहारिका सिंह

Sponsored
Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निहारिका सिंह
Posts 14
Total Views 203
स्नातक -लखनऊ विश्वविद्यालय(हिन्दी,समाजशास्त्र,अंग्रेजी )बी.के.टी., लखनऊ ,226202।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia