कुछ यूँ मनाओ तुम इस बार दीवाली

कृष्ण मलिक अम्बाला

रचनाकार- कृष्ण मलिक अम्बाला

विधा- कविता

बाहर रौशनी तो सभी करते हैं, जिसने है भीतर जोत जगा ली ।
उसी को मिला है ज्ञान प्रकाश , उसी की सच्चे अर्थों में दीवाली ।

इधर धुआं-उधर धुआं , फैलाकर हर ओर जहर की आंधी ।
देकर पर्यावरण को जहर का प्याला , हर पल कहते वाह जी -वाह जी ।

पल भर में ठा-ठा करके , खुद लेते हैं आनंद
पैसे को हवा में जलता देख , कहते मिल गया परमानन्द ।

अरे भाई इसकी बजाय बाँट ख़ुशी , किसी गरीब की झोली में ।
मिलेगा आनंद पल भर में , जैसे मिले हैं बरसाने की होली में ।

अरे देखो रे आने वाली हैं सर्दियां , रख तू अपने इस धन को बचा के ।
गिफ्ट शिफ्ट और पटाखों का छोड़ रे चक्कर , किसी गरीब की गरीब की झोली में कम्बल ही ला दे ।

ठान ले अगर हर आदमी , पटाखों और गिफ्टों का मोह त्यागने की ।
जगा जगाया फिर से हो गया भारत, फिर नहीं जरूरत किसी को जगाने की।

पटाखों की कुछ पल की आवाज , करती है शुद्ध हवा को बर्बाद ।
सोच कर हिलती है रूह लेखक की , तभी तो किया जगाने का आगाज ।

इस बार क्यों न सोचे कुछ नया , सही अर्थों में भरपूर बेशक पटाखों से खाली ।
एक आदमी एक कम्बल बांटे , कुछ यूँ मनाओ तुम इस बार दीवाली ।

Views 44
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
Posts 41
Total Views 5.7k
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर कि तुम भी कवि बन सकते हो , कविताओं के मैदान में कूद गये | अब तक आनन्द रस एवं जन जागृति की लगभग 200 रचनाएँ रच डाली हैं | पेशे से अध्यापक एवं ऑटोमोबाइल इंजिनियर हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment