जागृति के साथ उत्सव मनाओ,

Mahender Singh

रचनाकार- Mahender Singh

विधा- लेख

खुशियाँ मनाओ..उत्सव मनाओ,
जीवंत होने का संदेश दो,
पर पाखंड को छोड़कर,
नि ज ता की खोज मेंं,
प्रेम-प्यार मे घुल-मिल एक हो जाओ,
.
जागरण मनाओ,
जीवन मिला है,
अपने जीवंत होने का हर साक्ष्य के
………..उदाहरण बन जाओ,
बस पाखंड को अलविदा कह दो,
तुम्हारा जन्म लेना …सफल हुआ,
.
आस्तिक भगौड़ा है,
बात-बात में शरण लेता है,
नास्तिकता सामना है,
खुद का खुद से सामना,
भुजदिलों का काम नहीं है,
ऐसा करना,
.
डॉ महेंद्र तेरा मानना है,
जीवन में सेवक बनना है,
स्वयं को जान लो,
फिर सब कुछ अर्थपुर्ण है,
अन्यथा सबकुछ व्यर्थ,
.
डॉ महेंद्र सिंह खालेटिया,

Sponsored
Views 13
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahender Singh
Posts 69
Total Views 1.6k
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia