कुछ दोहे

Laxminarayan Gupta

रचनाकार- Laxminarayan Gupta

विधा- दोहे

कविता किरकी कांच जस, हर किरके को मोह ।
छपने की लोकेषणा, करे छंद से द्रोह ।

आत्म मुग्ध लेखन हुआ, पकड़ विदेशी छंद ।
ताका, महिया, हाइकू, निरस विदेशी कंद ।

पुलिस, कोर्ट. लोकल निगम, कर्म क्षेत्र बदनाम
बिना गांठ ढ़ीली किये, बनते वहाँ न काम ।

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 3
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Laxminarayan Gupta
Posts 29
Total Views 395
मूलतः ग्वालियर का होने के कारण सम्पूर्ण शिक्षा वहीँ हुई| लेखापरीक्षा अधिकारी के पद से सेवानिवृत होने के बाद साहित्य सृजन के क्षेत्र में सक्रिय हुआ|

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia