कुछ दोहे…

त्रिलोक सिंह ठकुरेला

रचनाकार- त्रिलोक सिंह ठकुरेला

विधा- दोहे

फँसी भंवर में जिंदगी, हुए ठहाके मौन ।
दरवाजों पर बेबशी, टांग रहा है कौन ।।

इस मायावी जगत में, सीखा उसने ज्ञान ।
बिना किये लटका गया, कंधे पर अहसान ।।

महानगर या गाँव हो, एक सरीखे लोग ।
परम्पराएँ भूल कर, भोग रहे है भोग ।।

किस से अपना दुःख कहें, कलियाँ लहूलुहान ।
माली सोया बाग़ में, अपनी चादर तान ।।

कपट भरें हैं आदमी, विष से भरी बयार ।
कितने मुश्किल हो गए, जीवन के दिन चार ।।

खो बैठा है आदमी, रिश्तों की पहचान ।
जिस दिन से मँहगे हुए, गेंहूँ, मकई, धान ।।

खुशियाँ मिली न हाट में, खाली मिली दुकान ।
हानि लाभ के जोड़ में उलझ रहे दिनमान ।।

— त्रिलोक सिंह ठकुरेला

Sponsored
Views 32
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
त्रिलोक सिंह ठकुरेला
Posts 10
Total Views 354
त्रिलोक सिंह ठकुरेला कुण्डलिया छंद के सुपरिचित हस्ताक्षर हैं.कुण्डलिया छंद को नये आयाम देने में इनका अप्रतिम योगदान है.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia