कुछ तो है

राहत वसीम

रचनाकार- राहत वसीम

विधा- अन्य

ये कैसा रिश्ता है तेरा मेरा
तेरे ख्यालो में गुजरती है राते
तुझसे ही होता है सवेरा मेरा
तुझको देखु जब भी ⓞⓝⓛⓘⓝⓔ
दिल घबरा सा जाता है जब तू करता है मेरा мєѕѕαgє ѕιgи
हर वक़्त देखु तेरा ḶḀSṮ SḕḕṆ
इसी ख्याल में गुजर जाता है दिन
दिल से आवाज तो आती है
पर होंठ बयां नही कर पाती है
आंखों को सुकून मिलता है देख कर तेरा 🇩 🇵
उसपर तेरा ѕтαтυѕ बढ़ा देता है मेरा 🇧 🇵
गुस्से में ना किया कर मुझे *BLOCK*
दिल में आजा ~direct~ ना कर “`knock“`

βψ _ " राहत"

Views 19
Sponsored
Author
राहत वसीम
Posts 3
Total Views 86
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia