कुंडलिया छंद

डाॅ. बिपिन पाण्डेय

रचनाकार- डाॅ. बिपिन पाण्डेय

विधा- कुण्डलिया

कुंडलिया छंद-
मिलना मुश्किल हो गया,जग में अच्छे मित्र।
अंकित सबके हृदय में,एक स्वार्थमय चित्र।
एक स्वार्थमय चित्र,करे बस चिंता अपनी।
मुँह में केवल दोस्त,स्वयं की चले सुमिरनी।
मिले न कोई धाय,भूल सब बैठे खिलना।
रहिए अपने गेह,किसी से क्योंकर मिलना।।
डाॅ. बिपिन पाण्डेय

Sponsored
Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia