किस्सा / सांग – # महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक – 7 # & टेक – बड़े बड़े विद्वान ज्योतषी होए ब्राहमण बेदाचारी, बेद विधि आगे की जाणै कोन्या पेट पूजारी। ।टेक।

लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

रचनाकार- लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

विधा- कविता

किस्सा / सांग – # महात्मा बुद्ध # अनुक्रमांक – 7 #

वार्ता:-
सज्जनों! राणी की बात सुणके राजा कहते है कि ये ब्राहमणन ऋषियों की संतान है।
जिन्होंने क्या-2 कर दिखाया। इन ब्राह्मणों मे तो त्रिलोकी के नाथो का वास है और ये ही
इस सृष्टी के संरक्षक है ये पेट पुजारी नहीं है। राजा राणी को क्या समझाता है।

जवाब:- राजा का।

रागणी:- 7

बड़े बड़े विद्वान ज्योतषी होए ब्राहमण बेदाचारी,
बेद विधि आगे की जाणै कोन्या पेट पूजारी। ।टेक।

बृहस्पति गुरू देवताओं नै भी ज्ञान सिखाया करते,
शुक्राचार्य मरे माणसां नै फेर जिवाया करते,
मण्डप ऋषि शरीर सूधा सूरग मै जाया करते,
ऋषि श्रृंगी यज्ञ हवन तै मीहं बरसाया करते,
अगस्त मुनी समुंद्र पी कै करगे जल नै खारी।।

4 बेद 6 शास्त्र थे रावण कै याद जबानी,
33 करोड़ देवते कैद मै काल भरै था पाणी,
दुर्वासा वशिष्ठ अंगीरा बेदब्यास ब्रहमज्ञानी,
कागभूसण्डी नारद भृगु ना दाब किसे की मानी,
भृगु जी नै विष्णु जी कै लात कसूती मारी।।

परसूराम नै 21 बार या दुनियां जीत लई थी,
जनयू ऋषि के पेट मैं वा गंगे मात रही थी,
होई चकवैबैन की फौज खत्म चुर्णकुट ऋषि गैल फ़ही थी,
कास्ब ऋषि नै जगत रच्या पृथ्वी पैताल गई थी,
30 हजार वर्ष तक राखी दुनियां सारी।।

ब्राहमण रूप कहै ब्रहमा का जिसनै जगत रचाया,
ब्राहमण मै विष्णु का बास न्यूूं चार बेद नै गाया,
राजेराम लुहारी आले नै बुद्ध का सांग बणाया,
ब्राहमण का बामा अंग छत्री दहणा धर्म बताया,
यज्ञ हवन और सदाव्रत मै कुबेर होया भण्डारी।।

Sponsored
Views 10
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |
Posts 21
Total Views 480
संकलनकर्ता :- संदीप शर्मा ( जाटू लोहारी, बवानी खेड़ा, भिवानी-हरियाणा ) सम्पर्क न.:- +91-8818000892 / 7096100892 रचनाकार - लोककवि व लोकगायक पंडित राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य जो सूर्यकवि श्री पंडित लख्मीचंद जी प्रणाली से शिष्य पंडित मांगेराम जी के शिष्य जो जाटू लोहारी (भिवानी) निवासी है |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia