किस्सा / सांग – # जयमल फता #

लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

रचनाकार- लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |

विधा- कविता

किस्सा – जयमल फत्ता

जवाब – मालदेव का रागनी – 1 – नयी तर्ज़

जयमल नए डिजाईन की ना देखीभाली साड़ी तनै कितै मंगवाली || टेक ||

इस साड़ी नै बांधण आली पार्वती भोले की
सिंग्लदीप की पदमनी सै कोए रुक्के रोले की
मै साड़ी नै मार दिया करड़ाई दिन ओले की
इस साड़ी नै बांधण आली गंगे माई होणी चाहिए
के सूर्य की छाया गौरी चन्द्रमा की रोहणी चाहिए
नारद का डिगाया ध्यान वाहे विषयमोहनी चाहिए
हूर कोए परिस्तान की चाहिए बांधण आली,
साड़ी तनै कीतै मंगवाली || 1 ||

साड़ी पै भारत का नक्शा छाप दिया प्राचीन
शम्भू मनु शतरूपा राणी अयोध्या का दिखै सीन
कांशी जी मै लड़का राणी हरिचंद बिके तीन
साड़ी ऊपर पंचवटी फेर राम लखन सिया नार
सोने के मृग दिखै राम खेलण जा शिकार
खिंच रेखा लछमन चाल्या आया लंका का सरदार
फेर वा सिता जानकी रावण नै ठाली,
साड़ी तनै कीतै मंगवाली || 2 ||

साड़ी ऊपर जहाज किश्ती चालै सै अगनबोट
साड़ी पै दरियाई घोड़ा गैंडा हाथी मारै लोट
बुगले हंस मुरगाई सारस की फिरै सै जोट
टूलै भंवर चमेली चम्पा लागरे चमन मै ठाठ
तोता मैना चांच मारै आम जामण और लोह्काट
मोर पपैइये कोयल कुकै माली देखै मींह की बाट
चमकै बिजली आसमान की घोर घटा काली
साड़ी तनै कीतै मंगवाली || 3 ||

स्याहमी कड़ै सुखादी साड़ी आंख्या मै चमकारा लाग्या
बहम की दवाई कोन्या गात मै सह्कारा लाग्या
कैरू पांडू जुआ खेलै युधिष्ठिर भी हारया लाग्या
भरी सभा दरबार के म्हा दुस्शासन करै था चाला
द्रोपदी का चीर तारै रटै थी वा कृष्ण काला
साड़ी ऊपर नाम लिख्या राजेराम लुहारी आला
किसे कारीगर इन्सान की कोए सै इस्तेमाली
साड़ी तनै कीतै मंगवाली || 4 ||

Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोककवि व लोकगायक पं. राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य @ संकलनकर्ता - सन्दीप कौशिक, लोहारी जाटू, भिवानी - हरियाणा |
Posts 19
Total Views 281
संकलनकर्ता :- संदीप शर्मा ( जाटू लोहारी, बवानी खेड़ा, भिवानी-हरियाणा ) सम्पर्क न.:- +91-8818000892 / 7096100892 रचनाकार - लोककवि व लोकगायक पंडित राजेराम भारद्वाज संगीताचार्य जो सूर्यकवि श्री पंडित लख्मीचंद जी प्रणाली से शिष्य पंडित मांगेराम जी के शिष्य जो जाटू लोहारी (भिवानी) निवासी है |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia