किस्मत

Dr Archana Gupta

रचनाकार- Dr Archana Gupta

विधा- दोहे

1
इम्तिहान ले ज़िन्दगी ,करे पास या फेल
किस्मत भी इसमें बड़ा, खेले अपना खेल
2
मिलना खोना सब भले , हो किस्मत के हाथ
नहीं छोड़ना चाहिए, पर कर्मों का साथ
3
अलग अलग लेकर यहाँ ,आते सब तकदीर
जाते पर जब छोड़ जग ,होते सभी फ़क़ीर
4
बीज सदा संतोष के,जो खुद में है बोय
बिगड़े चाहें काम वो,नहीं भाग्य को रोय
5
किस्मत के भी खेल हैं,कितने यहाँ अजीब
कोई बहुत अमीर तो, कोई बहुत गरीब
6
पल में किस्मत दे बदल,वक़्त बड़ा बलवान
राजा को कर रंक दे,रंक करे धनवान
7
होते जीवन भर रहें,कर्म भाग्य के खेल
सफल होय पर ज़िन्दगी,जब इनका हो मेल

डॉ अर्चना गुप्ता

Views 58
Sponsored
Author
Dr Archana Gupta
Posts 223
Total Views 13.4k
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
7 comments
  1. लाजबाब ! लेकिन मेरी भी पोस्ट और View दिखने दीजिए हम लोग बच्चे हैँ कम से कम ये सोच के 517 Views थे मेरी Post पर

    • अमरेश जी,
      आपसे अनुरोध है कि अगर आप किसी समस्या का सामना कर रहे हैं तो कृपया Contact पेज पर जाकर टीम साहित्यपीडिया से संपर्क करें। यह Comments सेक्शन रचनाओं पर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए है।
      साहित्यपीडिया का सारा सिस्टम ऑटोमैटिक कर दिया गया है। अगर कोई रचना नियमों का उल्लंघन करती है तो उसके views नहीं जुड़ते।
      इस पटल की गुणवत्ता बनाये रखने के लिए कुछ नियम बनाये गए थे जो की पहले से ही “Create New Post” पेज पर लिखे गए हैं। इस website पर register करते वक़्त भी आपने सारे नियमों का पालन करना स्वीकार किया था। लेकिन अभी तक की आपकी सारी रचनाएं उन नियमों के अनुसार नहीं हैं। आप नियमानुसार रचनाएं प्रकाशित कीजिये और उन सब के views दिखायी देंगे।
      हमारी पूरी टीम साहित्यपीडिया को चलाने और उसमे गुणवत्ता बनाये रखने के लिए दिन-रात मेहनत कर रही है। आपसे निवेदन है कि इस प्रयास में हमें सहयोग दें।
      -टीम साहित्यपीडिया

  2. समय -2 पर मेरे भी लेख, कविताएँ और कहानियाँ भी पबलिश होते हैँ