किसान (रागनी)

सतीश चोपड़ा

रचनाकार- सतीश चोपड़ा

विधा- अन्य

क्यूकर मनाऊँ तीज पींग फांसी का फंदा दिखै सै
दब्या कर्ज तळै हार पेड़ पै किसान लटकता दिखै सै

बखते लिकडै काम की ख़ातर ठेठ खेत में पावैं सै
जब तक लिकड़ै सूरज बैरी वो आधा खेत नुलावैं सैं
खड़ा डोळे पै बाट रोटी की वो ठा ठा एडी देखै सै

सारा साल खटै खेत मैं वो आपणै हाड गलावै रै
इबकै दाणे चोखे होज्यां नयूं सोचै कर्ज चुकावै रै
जै ना बरस्या इबकै मीह तै माटी रेह रेह दिखै सै

सारी पूंजी ला दी फेर भी काम खेत का चाल्लै ना
मंडी मैं जब जावै जीरी पूरा दाम मिल्लै ना
जो उगावै उस्से कै घरनै माँ खाली चाकी पीसै सै

बेरा ना कद आवैगा वो बाट बखत की देखां साँ
होज्यां स्याणें भाई सारे चाल जगत की देखां साँ
नहीं किसे का गुलाम चोपड़ा सच्चाई नै लिखैे सै

Views 27
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सतीश चोपड़ा
Posts 13
Total Views 4.3k
नाम: सतीश चोपड़ा निवास स्थान: रोहतक, हरियाणा। कार्यक्षेत्र: हरियाणा शिक्षा विभाग में सामाजिक अध्ययन अध्यापक के पद पर कार्यरत्त। अध्यापन का 18 वर्ष का अनुभव। शैक्षणिक योग्यता: प्रभाकर, B. A. M.A. इतिहास, MBA, B. Ed साहित्य के प्रति विद्यालय समय से ही रुझान रहा है। विभिन्न विषयों पर लेख, कविता, गजल व शेर लिखता हूँ। कलम के माध्यम से दिल की आवाज दिलों तक पहुँचा सकूँ इतनी सी चाहत है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia