*** कितने खुशख़त **

भूरचन्द जयपाल

रचनाकार- भूरचन्द जयपाल

विधा- मुक्तक

कितने
खुशख़त
लिखे
मैंने तुझको
चिट्ठी
लौटती
डाक से
डाकिया
एक भी
नहीं लाया
शायद
मेरा
पत्र लिखना
तुम्हे पसन्द
नहीं आया
या फिर
दिल की बात
तुमने दिल में
आज तलक है
दबाये रखी
क्योंकि
कनखियों से
आज भी तुम
मुझे
बड़े प्रेम से
निहारा करती हो
क्या यह
प्रेम नहीं
जिस्म की
कारा में पला
ये प्रेम क्या हमें
एक कोमल तन्तु से
बांधे हुए
आज भी
जीवित नहीं है
जब मुझे चोट लगती है
तो आह अनायास
तुम्हारे दिल से
निकलती है
तुम अपने
अहम के आगे
मानो या ना मानो
हर-कारा कैद नहीं
हुआ करती
और
हरकारा हर चिट्ठी को
बांचा नही करता
आज डाक के
प्रतिरूप बदल गए हैं
डाकिया डाक
देने भले नही आता
ईमेल, जीमेल , मैसेंजर
सीधे विचार
आदान-प्रदान का बने
माध्यम इसीलिए
शायद किसी संवदिये की
आवश्यकता नहीं
जो हूबहू
आप के विचारों या
संवाद को किसी तक
पहुचा सके
क्योंकि
आज तो
सिसकिया भी
शब्द अभिव्यक्त
कर देते है
और दिल को
भावों से भर देते हैं ।
कभी कहते थे
डाकिया डाक लाया
ख़ुशी का पैगाम लाया
कोई दर्द ना लाया
डाकिया डाक लाया ।
👍मधुप बैरागी

Sponsored
Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भूरचन्द जयपाल
Posts 406
Total Views 10.6k
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिंदी रचनाएं 9928752150

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia