कितना खूबसूरत जहाँ है

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

मैं हरे बाग देखता हूँ, लाल गुलाब भी
खिलते हुए उन्हें तेरे और मेरे लिए
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

मैं नीला आसमान देखता हूँ, सफ़ेद बादल भी
उजला जगमगाता दिन और गहरी अंधरी रातें
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

इंद्रधनुष के सुन्दर रंग आसमान में बिखरे हुए
चेहरे भी लोगों के ऐसे ही रंगों में गुज़रते हुए
दोस्त मेरे मेरा हाथ मिलाकर हाल चाल पूछते हैं
पर शायद ये कहते हुए कि वो मुझे चाहते हैं

मैं बच्चों का रोना सुनता हूँ, उन्हें बढ़ते हुए भी
वो कुछ इतना सीखते हैं कि मैं जीवन में भी ना सीख पाऊँ
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है
हाँ, मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

–प्रतीक

Views 19
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 36
Total Views 777
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia