कितना खूबसूरत जहाँ है

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

मैं हरे बाग देखता हूँ, लाल गुलाब भी
खिलते हुए उन्हें तेरे और मेरे लिए
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

मैं नीला आसमान देखता हूँ, सफ़ेद बादल भी
उजला जगमगाता दिन और गहरी अंधरी रातें
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

इंद्रधनुष के सुन्दर रंग आसमान में बिखरे हुए
चेहरे भी लोगों के ऐसे ही रंगों में गुज़रते हुए
दोस्त मेरे मेरा हाथ मिलाकर हाल चाल पूछते हैं
पर शायद ये कहते हुए कि वो मुझे चाहते हैं

मैं बच्चों का रोना सुनता हूँ, उन्हें बढ़ते हुए भी
वो कुछ इतना सीखते हैं कि मैं जीवन में भी ना सीख पाऊँ
मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है
हाँ, मैं सोचता हूँ कितना खूबसूरत जहाँ है

–प्रतीक

Views 10
Sponsored
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 27
Total Views 592
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia