काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

कक्षा की खिड़की से बाहर मैंने आज
उसे खड़े देखा कुछ परेशान सा
चेहरा था वो कुछ अनजान सा
कुछ खोजता हुआ, उधेड़बुन में लगा
वो चेहरा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

दिन बीत गए कई उसे देखे बिना
आज वो दिखी एक बस स्टॉप पे
और मैं उस चेहरे को तकता रहा
वो चेहरा गुलाबों सा गुलाबी
वो चेहरा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

आज मुझे देख वो मुस्कुराई
हल्की सी आवाज़ में उसने
मुझे आवाज़ लगाई
उस दिन हमने साथ में सफ़र किया
वो कुछ कहती रही, और मैं सुनता रहा
दिन ऐसा जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

दिन गुज़रते गए, अब हम दोस्त बन गए
वक़्त गुज़रता रहा, हम साथ चलते रहे
मैं बस उसकी आवाज़ सुनना चाहता
वो चिड़िया सी प्यारी चहचहाट
आवाज़ वो जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

आज वो ये शहर छोड़ कर जा रही है
उसकी क़िस्मत उसे कहीं और बुला रही है
मैं मौन खड़ा हूँ अपने जज़्बात दबाये हुए
आंसुओं को आँखों में छिपाये हुए
क्योंकि वो जानती नहीं थी पर
वही तो थी वो लड़की जो सारे ग़म भुला दे
काश मैं उसे फिर देख पाऊँ

— प्रतीक

Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 36
Total Views 777
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia