“कारगिल”

RAJESH BANCHHOR

रचनाकार- RAJESH BANCHHOR

विधा- कविता

ललकार हमें न ए जालिम
अब हमें नहीं सहना है !
खबरदार ए सरहदपार
कश्मीर हमारा अपना है !!
मत दोहरा इतिहास भूल से
इतिहास नया बनाके देख !
यारी को उत्सुक ये धरती
हाथ जरा बढ़ा के देख !!
अमन-चैन का सबक सीख ले
वरना तू पछताएगा !
कसम हमें है इस मिट्टी की
तू मिट्टी में मिल जाएगा !!
कारगिल के जर्रे-जर्रे से
यही आवाजें आती है !
दुश्मन देश संभल जा वरना
एक निशाना काफी है !!

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 3
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAJESH BANCHHOR
Posts 7
Total Views 133
"कुछ नया और बेहतर लिखने की चाह......" राजेश बन्छोर "राज" जन्मतिथि - 05 जून 1972 शिक्षा - सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा सम्पर्क - वार्ड-2, पुरानी बस्ती हथखोज (भिलाई),पोस्ट - सुरडूंग, जिला - दुर्ग, छत्तीसगढ़ 490024 मो. नं. - 7389577615 प्रकाशन संदर्भ - पत्र-पत्रिकाओं में समय-समय पर कविता, कहानी प्रकाशित

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia