***कान्हा के संग होली** मनाए राधा भोली***

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- गीत

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाल हुई

*तू रंग मोहे ऐसा लगाए
गिरधारी मोरे प्यारे
ये तेरी राधा लाल हुई

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाल हुई

*माहरी चुनरी के रंग हरजाई
वो खेले रंग पानी
मुरारी संग साँझ हुई

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाली हुई

*भीगी चोली बीरज सतरंगी
मैं हुई मुरलीधर की
वो खेले होली ग्वाल सहित

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाली हुई

*आया फोड़न वो मटकी
गलियन की
करे अपने मन की
ग्वालिन बाहर आन लगी

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाल हुई

*खेलन रंग अबीर ललन से
राधा सखिन घर से
निकल गलियन से
सुभग बेला आज हुई

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मोरी लाल हुई

*कान्हा की राधा प्यारी
खेले होली न्यारी
चुनरी चोली लाल हुई

*मारे भर भर भर पिचकारी
ओ मेरे नंदलाली
चुनर मेरी लाल हुई….

Views 70
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 73
Total Views 2.7k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (काव्य धारा) blogspot- myneerumohan.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia