*कानहा खेले होरी *

सरस्वती कुमारी

रचनाकार- सरस्वती कुमारी

विधा- कविता

कानहा खेले होरी
संग राधा गोरी
कानहा के हाथ
कनक पिचकारी
राधा के हाथ
अबीर की पोटरी
रंग लगायो कानहा ऐसो
राधा हो गई मन-मगन
श्याम के रंग में
रंग गई राधा
भीज गयो अंतर्मन
जन्म -जन्म का
प्रीत है बाढ़यो
अब नाहिं छूटै संग
कानहा खेले होरी
संग राधा गोरी ।

Views 37
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सरस्वती कुमारी
Posts 17
Total Views 4.5k
सरस्वती कुमारी (शिक्षिका )ईटानगर , पोस्ट -ईटानगर, जिला -पापुमपारे (अरूणाचल प्रदेश ),पिन -791111.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia