” ——————————————– कांटों पे लेटे हैं ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

फौज यहां लड़ती है , नेता श्रेय लेते हैं !
शीश जहां झुकना हो , मुंह को फेर लेते हैं !!

विरोधी विरोध करे , मूंछें तानें सरकारें !
सर्जिकल स्ट्राइक को , हम सलाम देते हैं !!

फूलों से नाज़ुक नहीं , खेलते अंगारों से !
सीने पे खा गोलियां , जान यों ही देते हैं !!

दूध माँ का दौड़े है , रक्त सा शिराओं में !
आन की ही खातिर तो , प्राण लुटा देते हैं !!

सुहागन का सिंदूर है , कलाई की राखी है !
मादरे वतन के लिए , कांटों पे लेटे हैं !!

तिरंगा इन्हें प्यारा , सदा ये नमन करते !
अंतिम बिदाई भी ये , तिरंगे में लेते हैं !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 50
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia