क़िस्सा अजीब है न कहानी अजीब है

Salib Chandiyanvi

रचनाकार- Salib Chandiyanvi

विधा- गज़ल/गीतिका

किस्सा अजीब है न कहानी अजीब है
राजा के साथ है जो वो रानी अजीब है
********
घटती है उम्र उसकी न मरती है दोस्तो
रहती है चाँद पर वो जो नानी अजीब है
********
दिन में महकती रहती है हैरत ज़दा हूँ मैं
सब ख़ुशबुओं में रात की रानी अजीब है
********
इबरत हंसी मजाक़ नहीं फलसफ़ा है ये
जो लिख रहा हूँ मैं वो कहानी अजीब है
********
झरने पहाड़ फूल हवा धूप छाँव क्या
कुदरत की एक एक निशानी अजीब है
********
सालिब चन्दियानवी

Sponsored
Views 40
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Salib Chandiyanvi
Posts 26
Total Views 282
मेरा नाम मुहम्मद आरिफ़ ख़ां हैं मैं जिला बुलन्दशहर के ग्राम चन्दियाना का रहने वाला हूं जाॅब के सिलसिले में भटकता हुआ हापुड आ गया और यहीं का होकर रह गया! सही सही याद नहीं पर 18/20की आयु से शायरी कर रहा हूँ ! उस्ताद तालिब मुशीरी साहब का शाग्रिद हूँ पर ज्यादा तर मैने फेस बुक से सीखा जिसमें मनोज बेताब साहब, कुंवर कुसुमेश साहब, मुख्तार तिलहरी साहब का बहुत बडा हाथ है !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia