कहते है मुझसे

arpita patel

रचनाकार- arpita patel

विधा- लेख

★■●◆ ★■●◆
कहती है ये हवाएं मुझ से क्यों बैठी हो उदास,
आ चल तुझे अपने झोंको में उड़ा कर दुनिया की सैर कर दू।
कहती है ये नदियाँ मुझसे क्यों बैठी हो उदास ,
आ चाल तुझे अपने लहरो से ऊंचा उठा दे।
कहते है घुँगुरु मुझसे क्यों बैठी हो उदास,
आ चल तुझे फिर से आँगन में नाचना सीखा दे।
कहती है साईकल मुझ से क्यों बैठी हो उदास ,
आ चल तुझे फिर से सड़कों की नाप करना सीख दे।
कहती है मेरी अलमारी में रखी डायरी और पेन क्यों बैठी हों उदास ,
आ चल लिख दे अपने अल्फाजो को और दुनिया को अपना दीवाना बना दे दीवाना बना दे

★◆●अर्पिता पटेल●◆★

Sponsored
Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
arpita patel
Posts 7
Total Views 95

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia