कस्तुरी

Neelam Naveen

रचनाकार- Neelam Naveen "Neel"

विधा- कविता

इस अक्षांश में जैसे
मुझे मेरे अंदर की
कस्तुरी से विमुक्त कर
मेरे मन का शोर
मौन को तोड़ता रहा
बारम्बार उन्मुक्त हो ।
जाने कितनी दफा मैं
ऐसे ही अंदर सफेद हो
बस पिघलता रहा कहीं
इस अनवरत विहंगम में
और तलाश लिए मैंने
सोये शब्द,खोये सपने ।
जो स्पन्दन से है कहीं
अन्जान तथाकथित वो
बादलों सा अस्तित्व लिये
मुझमें है भी, और नही भी
किन्तु मायने नही,कि वो हो
अब कस्तुरी विलुप्त ही सही।।

नीलम "नील"
देहरादून

Views 66
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Neelam Naveen
Posts 18
Total Views 2k
शिक्षा : पोस्ट ग्रेजूऐट अंग्रेजी साहित्य तथा सोसियल वर्क में । कृति: सांझा संकलन (काव्य रचनाएँ ),अखंड भारत पत्रिका (काव्य रचनाएँ एवं लेख ) तथा अन्य पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित । स्थान : अल्मोडा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia