कस्तुरी

Neelam Naveen

रचनाकार- Neelam Naveen "Neel"

विधा- कविता

इस अक्षांश में जैसे
मुझे मेरे अंदर की
कस्तुरी से विमुक्त कर
मेरे मन का शोर
मौन को तोड़ता रहा
बारम्बार उन्मुक्त हो ।
जाने कितनी दफा मैं
ऐसे ही अंदर सफेद हो
बस पिघलता रहा कहीं
इस अनवरत विहंगम में
और तलाश लिए मैंने
सोये शब्द,खोये सपने ।
जो स्पन्दन से है कहीं
अन्जान तथाकथित वो
बादलों सा अस्तित्व लिये
मुझमें है भी, और नही भी
किन्तु मायने नही,कि वो हो
अब कस्तुरी विलुप्त ही सही।।

नीलम "नील"
देहरादून

Views 49
Sponsored
Author
Neelam Naveen
Posts 12
Total Views 568
From Ranikhet Dist. Almora
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia