कविता

प्रमिला तिवारी

रचनाकार- प्रमिला तिवारी

विधा- कविता

"तुम्हारी यादे"
जब तुम नही हो अब आस पास
होता क्यों हर पल तुम्हारा एहसास
रूहकी गहाईयों से उठती कोई आवाज
जाने कैसी रहती ये अनजानी तलाश

कोहरे के बीच मे कभी झिलमिलाती
दिखती छुपती कभी खलखिलाती
अक्स कोई जैसे आहट तुम्हारे होने की
छिटकी किरणों सी यादें जगमगाती ।

घेर लेती है रोज चुपके से आकर
खामोशी की मखमली एक चादर
तनहाईयों मे कुछ खोती कुछ पाती मै
वक्त की डोर पर यादों को पीरोकर

शाम सुरमयी सोख लेती आसमानी अबीर
शूल सा चुभता तुम्हारे यादों की पीर
खुद ही खुद को समझाती लेती मै
रोकर उमड़ते मचलते नैनो की नीर ।

प्रमिला श्री

Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia