कविता

Ravi Sharma

रचनाकार- Ravi Sharma

विधा- कविता

यह कविता लगभग १९ वर्ष की आयु में, जुलाई १९७५ को ट्रैकिंग करते समय, लगभग १०- १२ मिंट के समय में लिखी गई।
आज भी मेरी यह पसंदीदा कविताओं में प्रथम स्थान रखती है।

काश मैं !

काश ! मैं हवा होती
दर्दे दिल की दवा होती
बरसाती समा होता
मैं काली घटा होती ।

हरियाली में पली हुई
मैं भी एक लता होती
गर तारा बन जाती तो
तारों में लापता होती ।

किसी शायर का शे' र होती
किसी कवि की कविता होती
संगीतकार का संगीत होती
कलाकार की अदा होती ।

पर्वतों से बहने वाली
पवित्र नदी गंगा होती
कोयले की खानों में
काश ! मैं हीरा होती ।

Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ravi Sharma
Posts 9
Total Views 158
परिचय- आप एक लेखिका,कवयित्री एवं शिक्षिका हैं। पिछले लगभग ४४ वर्षों से आप मंच पर कवितापाठ करती आ रही हैं। आपके दो काव्य- संग्रह भी प्रकाशित हुए हैं। १. काव्य- किरण ( नव कवियों के लिए )२. काव्य- उमंग ( स्कूली बच्चों के लिए ) इसमें अनेक काव्य- विधाओं में, सरल भाषा में रचनाएँ लिखी गयीं हैं ।अक्सर प्रतिष्ठित संस्थाओं से सम्मान प्राप्ती एवं समाचार पत्रों, पत्रिकाओं, संग्रहों में रचना प्रकाशन होता है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia