कविता –विरहणी

Sajoo Chaturvedi

रचनाकार- Sajoo Chaturvedi

विधा- कविता

विरहणी
ऐ पवन ! जरा रुकजा मेरे संगसंग चल।
राहें भूली मैं प्रियतम राह दिखाते चल।
राह पथिक बनके जरा धीरे –धीर चल।
मै आई दूर देश से स्वपन्न सुनहरे तू चल।
वो देखो!मेरी सखी वहाँ तू देखते चल
आधी बतियाँ भूली तू मेघ संंग चल।

मेघघनछाये ऐ मेघ !जरा रुकजा अब।
पथिकबनके आगे भूली राहें दिखा अब।
कहाँ है परदेशी तेरा कहाँ जाना अब।
पवनने छलके भेजा मेरे संगि अब।
आधी राहपे छोड़ि चला अपने राहपे अब।
हे विहरणी पीछे जा लौट आए तरस अब।
झूठा नसमझना शहीदों में गिनती अब।
सज्जो चतुर्वेदी स्वरचित

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sajoo Chaturvedi
Posts 24
Total Views 112

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia