कविता :मजदूर तेरी अजब कहानी

Radhey shyam Pritam

रचनाकार- Radhey shyam Pritam

विधा- कविता

तस्ला उठाए चली जा रही जर्जर काया,
कोयले-सी काली ज्येष्ठ की दोपहरी में।
किसी आवाज पर तेज होते थके कदम,
पेट जल रहा,फिर भी कर्मों पर जोर-
जो लिखे हथेली में।
दिन में तन जले,रात को मन,जलना जीवन,
रोम-रोम जलता जले,दुनिया तज कहाँ चले रे।
दिनभर की थकन,तपन बढती है चले रे,
हद हो जाए उस पल,चूल्हे की राख ठण्डी-
पडी मिले रे।
बीबी,बच्चे एक कोने में चुपचाप,गुमसुम,
मानो मर गया हो कोई हृदयी रिश्तेदार।
अचानक सुबह की बात स्मृति पटल छायी,
मालिक से पगार लाना,माथे हाथ रख रोया-
मजदूर लाचार।
यूँ पत्थर-सा गिरा झूल गई खटिया कमजोर,
हाथ फेर नन्ही बच्ची ने गालों पर चेताया।
कहाँ खो गए बापू? आँखें खोलो,फिक्र न करो,
आज मेरी गुडिया ने व्रत रखा है,हमने भी-
आपने क्यों भुलाया।

आँखों से स्नेह-गंगा बही,भूल गया भूख सारी।
निन्दिया ने झूला-झुलाया,बीत गई रैन सारी।।

Views 38
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Radhey shyam Pritam
Posts 132
Total Views 5k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia